प्यार पहले और बाद में

आवारा बंजारा कहा दूंदू वही चहरा जिसे देखकर , लम्हे कदम बदने से इंकार कर जाते थे , सूरज...
Read More

तमाशबीन वर्तमान

 राकेश कुमार वर्मा कपकपाती रौशनी को देखने,  हुजूम उलटते हैं। डरते हैं, कतराते हैं, साहिब.......
Read More

बीते वर्ष से गुहार

राकेश कुमार वर्मा ऐ वक्त तू कुछ पीछे लोट जा, कुछ अधूरे काम निपटाने हैं मुझे। कही हँसी छूटी है...
Read More

इश्क करो तो आँखों में अश्क रखो

इश्क करो तो आँखों में अश्क रखो  किसे पता कब कौन बेवफा निकले  किया था प्यार 'साहिल' ...
Read More

बढ़ रहा ऊपर निडर पहाड़

उचें ऊँचें पर्वत व् पहाड़  छू रहे गगन को  उनकी आकृति प्रकृति  ललचा  रही मन को  ऊँचें न...
Read More

नेता और अभिनेता

बहुत समानता है  नेता और अभिनेता में अभिनेता बदलता रूप  कभी नायक  कभी खलनायक कभी जोकर...
Read More