Showing posts with label Poems. Show all posts
Showing posts with label Poems. Show all posts
मंदिरों में आरती,मस्जिदों में अजान होता नहीं(ग़ज़ल)

मंदिरों में आरती,मस्जिदों में अजान होता नहीं(ग़ज़ल)

वो आँखों में होता है जो निगाहों में होता नहीं जो हो इश्क़ में उसे फिर कोई होश होता नहीं दवा,दुआ,शाइस्तगी,हमनफ्सगी सब बेकार वो ज़ख़्...
Read More

खुले आसमाँ की धूप भी पिया कर(ग़ज़ल)

आलीशान महलों में वो गर्माहट नहीं कभी खुले आसमाँ की धूप भी पिया कर कोई फर्क ही नहीं है राम और अल्लाह में दिल जिसे मानता है,नाम उसी ...
Read More
आपको देखके न जाने क्या क्या सोचते होंगे

आपको देखके न जाने क्या क्या सोचते होंगे

आपको देखके न जाने क्या क्या सोचते होंगे ज़मीं पे सरगोशी करता कोई चाँद सोचते होंगे क्या कोई आतिश थी या कोई नर्म फुहार फ़िज़ा से आपके जाने के ब...
Read More
मेरा चाँद निकल आया है,ज़मीं पे रोशनी हो गई

मेरा चाँद निकल आया है,ज़मीं पे रोशनी हो गई

.मेरा चाँद निकल आया है,ज़मीं पे रोशनी हो गई उस आसमाँ के चाँद की जरूरत नहीं,इक्तिला करो गर फिर भी है कुछ खुशफहमी उस चाँद को तो मेरे ...
Read More