हरिसुमन बिष्ट के कथा-साहित्य में चित्रित निम्न वर्ग

  • मनोज जोशी

Abstract

निम्न वर्ग का सम्बन्ध समाज में मजदूर, किसान और कारखानों में काम करने वाले श्रमिकों से है। निम्न वर्ग हमेशा पूंजीवादी वर्ग के शोषण का शिकार होता रहा है। निम्न वर्ग को पूंजीवादी वर्ग हमेशा हेय और शोषण की दृष्टि से देखता है। निम्न वर्ग हमेशा वर्गीय समाज व्यवस्था में अभावग्रस्त और दाने-दाने का मोहताज रहा है। हरिसुमन बिष्ट ने अपने कथा-साहित्य में निम्न वर्ग के पात्रों के प्रति सहानुभूति व्यक्त की है। हरिसुमन बिष्ट के कथा-साहित्य में दो तरह का निम्न वर्ग दिखाई देता है। प्रथम ग्रामीण परिवेश का निम्न वर्ग दूसरा महानगरीय परिवेश का निम्न वर्ग। लेखक ने इन दोनों निम्न वर्गां का यर्थाथ चित्रण बहुत ही सूक्ष्म रूप में किया है।

Published
2021-08-20