कोरोना त्रासदी

  • दिनेश कुमार

Abstract

इस कोरोना काल ने हमे कई तरह के सवालों और विचारों से रूबरू करवाया या ये कहे ये मानव जाति की आंखे खोलने को ही आया था। इस कठिन समय में हमने इंसानों के कई रूप देखे कुछ मेंमानवता की हद देखने को मिली कही ये भी देखने को मिला की अपनी स्वार्थ सिद्धि के लिए लोग किस हद तक इंसानियत भूल सकते है। अमीर हो या गरीब सब को एक जगह ला कर खड़ा करदिया।

Published
2021-06-01