तितास

  • इप्शिता सेनगुप्ता

Abstract

एक बावरी नदी से मुलाक़ात हुई,

दिन निगल के बैठी थी।

भाप उगलती रह-रह के,

मानो खुद में-

Published
2017-02-12