जिन्दगी क्या है ?

  • आरती

Abstract

सूना तो था 

जिन्दगी वेबजह सताती है 

दर्द के आँसू रूलाती है 

 

--

जानता तो हूँ 

जिन्दगी एक परीक्षा है 

हर बार चुनाव चाहती है 

 

--

पर समझा आज है 

जिन्दगी क्या है ?

 

--

कई बार फिसलना है 

पर हर बार संभलना है

जिन्दगी एक बेबसी है 

टूट कर बिखरना

और बिखर कर सँवरना है 

 
Published
2017-04-15