याद रह

आज का विचार
*साथ रह कर जो छल करें,*
     *उससे बड़ा कोई शत्रु*
        *नहीं हो सकता*
*और*
    *जो हमारे मुंह पर*
        *हमारी बुराइयां बता दे,*
            *उससे बड़ा कोई*
                *मित्र हो नहीं सकता ।*
*याद रहें*
    *साफ-साफ बोलने वाला*
       *कड़वा जरुर होता है*
         *पर धोखेबाज़*
            *हर्गिज़ नहीं हो सकता*
         🌹 सुप्रभात 🌹

Share on Google Plus

About EduPub

0 comments:

Post a Comment