नेता और अभिनेता

नेता और अभिनेता

बहुत समानता है 
नेता और अभिनेता में
अभिनेता बदलता रूप 
कभी नायक 
कभी खलनायक
कभी जोकर 
तो कभी लोफर 
हर फिल्म में बदलता रूप 
बह चाय की चुस्की 
कभी बार विस्की 
जो दिखाते वे होते नहीं 
जो होते है वे दिखाते नहीं 
दिखाते है शराब 
पर पिटे है पानी 
येही है इनकी झूठी कहानी
पर हमारे नेता सुनो बंधू सुनो भ्राता
इनका तो रूप नहीं बदलता 
पर इनके एक चेहरे के पीछे 
है हजारों चेहरें छिपे
अभिनेता की तो अभिनय करने की भूमिका
पर नेता की मत पूछ भूमिका
नेता जो दिखता है 
वही होता भी है 
लाख छुपायें अपनी कुकृतियाँ 
सामने लाती है मीडिया 
यही है इंडिया 
समाज सेवा के नाम पे 
साधते है स्वार्थ 
कौन समझ पाया है अबतक 
इनके भाषण का अर्थ 
करते है हजारों जनता का समय व्यर्थ 
हम भी क्या लिखने लगे भावार्थ 
होने दीजिये ज हो रहा अनर्थ 
पब्लिक फंड है गंगाजल 
ये तो बहता पानी है 
सब अपना हाथ धो लेते है 
येही तो कहानी है 
बैठा साहिल देख रहा है 
भ्रस्टाचार की मौज-ए- तूफानी है 
ले दुबे का सब कुछ एक दिन
बस आप हाथ पे हाथ रखे 
की आएगा सुदिन ! 
शशिकांत निशांत शर्मा 'साहिल'
 
 
Share on Google Plus

About Pen2Print Services

0 comments:

Post a Comment