​क्योंकि ये छठ जरुरी है..


ये छठ जरुरी है |
धर्म के लिए नहीं | समाज के लिए नहीं |
जरुरी है हम आप के लिए जो अपनी जड़ों से कट रहे हैं |
उन बेटों के लिए जिनके घर आने का ये बहाना है |
उस माँ के लिए जिन्हें अपनी संतान को देखे महीनों हो जाते हैं | उस परिवार के लिये जो टुकड़ो में बंट गया है |
ये छठ जरुरी है उस नई पौध के लिए जिन्हें नहीं पता की दो कमरों से बड़ा भी घर होता है |
उनके लिए जिन्होंने नदियों को सिर्फ किताबों में ही देखा है |
ये छठ जरुरी है उस परंपरा को ज़िंदा रखने के लिए जो समानता की वकालत करता है |
जो बताता है कि बिना पुरोहित भी पूजा हो सकती है |
जो सिर्फ उगते सूरज को ही नहीं डूबते सूरज को भी सलाम करता है |
ये छठ जरुरी है गागर निम्बू और सुथनी जैसे फलों को जिन्दा रखने के लिए | सूप और दउरा को बनाने वालों के लिए |
ये बताने के लिए इस समाज में उनका भी महत्व है |
ये छठ जरुरी है उन दंभी पुरुषों के लिए जो नारी को कमज़ोर समझते हैं |
ये छठ जरुरी है | बेहद जरुरी |
अंत में आप सभी को आस्था के इस पावन पर्व छठ की हार्दिक शुभकामनाएँ..
#Chhath
#PrideOfBihar
#Home
#Family
Share on Google Plus

About EduPub

0 comments:

Post a Comment