सम्बन्ध को जोड़ना* *एक कला है,* *लेकिन* *"सम्बन्ध को निभाना"* *एक साधना है*

*सम्बन्ध को जोड़ना*
      *एक कला है,*
          *लेकिन*
*"सम्बन्ध को निभाना"*
     *एक साधना है*

*जिंदगी मे हम कितने सही और कितने गलत है, ये सिर्फ दो ही शक्स जानते है..*

*"ईश्वर "और अपनी "अंतरआत्मा"*

*और हैरानी की बात है कि दोनों नजर नहीं आते...!*
🌹🌹 जय श्रीकृष्ण🌺🌺😊🙏
🌿🌾 शुभ प्रभातम💐🍁

Share on Google Plus

About Unknown

0 comments:

Post a Comment